शनिवार, 24 अक्तूबर 2009

युवा दखल: साहित्य का आधिक्य और पुरस्कारों की लालीपाप



पिछले दिनों अन्यान्य कारणों से पुरस्कार और उनसे जुड़े तमाम विवाद बहसों के केन्द्र में रहे। वैसे भी इस साहित्य विरोधी माहौल में जब साहित्य कहीं से जीवन के केन्द्र में नही है, बहसों के मूल में अक्सर साहित्य की जगह कुछ चुनिन्दा व्यक्ति, पुरस्कार और संस्थायें ही रहे हैं। पाठकों के निरंतर विलोपन और इस कारण साहित्य के स्पेस के नियमित संकुचन ने वह स्थिति पैदा की है जिसमे व्यक्तियों के प्रमाणपत्र निरंतर महत्वपूर्ण होते गए हैं। ऐसे में यह अस्वाभाविक नही कि पूरा साहित्य उत्तरोत्तर आलोचक केंद्रित होता चला गया और पुरस्कार तथा सम्मान रचना का अन्तिम प्राप्य।

यहाँ यह भी देखना ज़रूरी होगा कि हिन्दी में लेखन का अर्थ ही साहित्य रचना होकर रह गया। अगर कोई कहे के वह हिन्दी का बुद्धिजीवी है तो सीधे-सीधे मान लिया जाता है कि वह या तो कवि है, या आलोचक या उपन्यासकार या फिर यह सबकुछ एकसाथ। हिन्दी का पूरा बौद्धिक परिवेश साहित्य लेखन के इर्दगिर्द सिमटा रहा है और इतिहास, दर्शन, अर्थशाष्त्र, राजनीति आदि पर अव्वल तो गंभीर बात हुई ही नहीं और अगर कुछ लोगों ने की भी तो आत्मतुष्ट साहित्य बिरादरी ने उसे हमेशा उपेक्षित ही रखा। इसका पहला अनुभव मुझे समयांतर के दस साल पूरे होने पर पंकज बिष्ट जी द्वारा आयोजित प्रीतिभोज में हुआ जहां केन्द्र में रखी विशाल मेज़ पर साहित्य के बडे नामों और नये पुराने संपादकों का कब्ज़ा था और सामाजार्थिक विषयों पर वर्षों से पत्रिका में नियमित लिखने वाले तमाम वरिष्ठ लोग परिधि पर स्थित कुर्सियों में सिमटे थे। इनमें ऐसे लोग भी थे जिन्हें अपने-अपने विषयों के बौद्धिक जगत में अन्तरराष्ट्रीय मान्यता प्राप्त है। यह एक ऐसी की पत्रिका के कार्यक्रम का दृश्य था जो मूलतः साहित्य की पत्रिका नहीं है। यह हिन्दी के बौद्धिक परिवेश का एक स्पष्ट रूपक है।

इसका परिणाम यह है कि अन्यान्य विषयों में हिन्दी का बौद्धिक परिवेश अत्यंत एकांग़ी और लचर रहा है। परीकथा के पिछले अंक में गिरीश मिश्र का प्रो अब्दुल बिस्मिल्लाह को दिया जवाब इस पूरे परिदृश्य को बडी बेबाकी से परिभाषित करता है। यह आश्चर्यजनक तो है ही कि पूरा हिन्दी जगत बाज़ारीकरण जैसी भ्रामक और निरर्थक शब्दावली का प्रयोग करता है, नवउदारवाद और नवउपनिवेशवाद जैसे शब्दों का प्रयोग समानार्थी रूप में प्रयोग किया जाता है और भी न जाने क्या-क्या।
यही नहीं, अन्य विषयों की उपेक्षा का ही परिणाम है कि हिन्दी में सारे पुरस्कार बस साहित्य के लिये आरक्षित हैं। पत्रकारिता को छोड दें तो हिन्दी की लघु पत्रिकाओं में अन्य विषयों पर लिखने वालों के लिये न तो कोई प्रोत्साहन है न पुरस्कार। तमाम चर्चाओं, परिचर्चाओं और कुचर्चाओं के क्रम में साहित्येतर विषय सिरे से गायब रहते हैं।
यह किस बात का द्योतक है? साहित्य की सर्वश्रेष्ठता का या हिन्दी के बौद्धिक दारिद्र्य का?

2 टिप्‍पणियां:

  1. साहित्येतर विषयों की अनदेखी आज की बात नहीं है । जब से लेखन शुरू हुआ है तभी से इतिहास विज्ञान आदि के लेखन को गौण लेखन माना जाने लगा यहाँ तक कि साहित्य इतिहास के लेखन को भी साहित्य के बराबर दर्जा नहीं मिला ,इसलिये हिन्दी साहित्य के इतिहास लेखन का कार्य भी एक विदेशी जर्मन लेखक को करना पड़ा । आचार्य रामचन्द्र शुक्ल जिसके 100 साल बाद आये । यह विडम्बना है कि इतिहास लेखन जो सत्य और तथ्यों पर आधारित है उसे ऐतिहासिक कल्पना पर लिखे साहित्य की तुलना में दोयम स्थान दिया गया । मूल विज्ञान तो छोड़िये विज्ञान फंतासी को भी साहित्य में स्थान नही मिला । राजनीति पर लिखा साहित्य व्यंग्य मे भी है तो उसे उसका उचित स्थान नही मिला । परसाई जी यदि नहीं होते तो अब तक इस विधा को ही परिधि से बाहर कर दिया गया होता ।सम्मान पुरस्कार आदि की असलियत तो अब जग जाहिर है इसलिये इस पर कुछ न कहा जाये तो बेहतर ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. (1)हिन्दी लेखन अभी तक उस परिपक्व्ता को छू नही पाया है. हम जानते हैं. आज भी यदि हमे किसी भी साहित्येतर विषय पर कोई मौलिक दस्तावेज़ खोजना हो तो अंग्रेज़ी मे झाँकना पड़ता है. या किसी शास्त्रीय भाषा की किताब देखनी पड़ती है. पाठकों की कोई कमी नहीं है. बस लेखक को महनत, प्रकाशक को हिम्मत करनी पड़ेगी, और समीक्षक को ज़रा आँखें खोलनी पड़ेगी.
    इधर आलम यह है कि लेखक, प्रकाशक, और आलोचक आसानी से चर्चित हो जाना चाहता है.हो भी जाता है, जब कि पाठक मुँह ताकता रह जाता है.
    (2) क्यों न कहा जाए, शरद भाई, कहिए और बार बार कहिए. ताकि हम जैसे दूर दराज़ के लोग समय पर सच से रू ब रू हो सकें. हमारे भ्रम टूटें. सही लोगों के साथ हम जुड़ सकें.

    उत्तर देंहटाएं